Murshid Ka Hai Chehra Naat Lyrics English,Uudu, Hindi | Manqbat e Tajush'shariah lyrics

Murshid Ka Hai Chehra Manqabat Lyrics

Manqabat e Huzoor Tajush'shariah Mufti Muhammad Akhtar Raza Khan Qadri Alaihir Rahmah



Written & Recited By - Andaleeb e Raza MUHAMMAD RAFIQUE RAZA QADRI


Murshid Ka Hai Chehra Manqabat


Jiski Chamak Se Baaghe Wafa Aaj Hara Hai
Har Qalb e Razviyat Me Basi Jiski Ziya Hai
Us Ke Siwa Nazar Me Na Ab Koi Jacha Hai
Dekha Hai Jisne Uspe Fida Ho Ke Raha Hai
Murshid Ka Hai Chehra 
Murshid Ka Hai Chehra


Sidqe Ateeq Adle Umar Taigh e Haidari
Usmañ Ki Sakha Gunchaye Baghdad Ki Kali
Ahmad Raza Ke Naibo Me Naib e Jali
Noori Ki Noori Yaad Hai Jis Me Basi Hui
Murshid Ka Hai Taqwa 
Murshid Ka Hai Taqwa


Is Daur e Pur Fitan Me Badalte Hai Hazaro
Paiso Pe Aaj Fatwe Bhi Bikte Hai Hazaro
Har Din Naye Jawaz Nikalte Hai Hazaro
Badle Nahi Ye Chahe Badal Jaaye Hazaro
Murshid Ka Hai Fatwa 
Murshid Ka Hai Fatwa


Akhtar Raza Ke Zarb Ki Kuch Aisi Maar Hai 
Ik Waar Se Hi Seena e Aada Me Ghaar Hai
Har Sulhe Kulli Dekh Ke Jisko Farar Hai
Jis Par Pada Hai Dono Jaha Me Wo Khwar Hai
Murshid Ka Hai Neza 
Murshid Ka Hai Neza


Mela Laga Hai Urs Me Sab Aashiqan Ka
Mamdooh Aaj Hai Jo Sabhi Ki Zaban Ka
Hai Behre Soz Hum Se Kai Maahiyan Ka
Ik Phool Hai Jo Mustafa Ke Boostan Ka
Murshid Ka Hai Rauza
Murshid Ka Hai Rauza


Maula Ka Is Jahan Me Aisa Nizam Hai
Har Daur Sunniyo Ko Mila Ik Imaam Hai
Noori Ka Faiz Taaje Shariyat Se Aam Hai
Wo Kaun Hai Jo Aaj Humara Imaam Hai
Asjad Raza Ke Naam Pe Qissa Tamaam Hai
Murshid Ka Hai Beta 
Murshid Ka Hai beta

Aye Murshid e Zamana Humara Bhala Karein
Husaam Aur Humaam Ka Sadqa Ata Karein
Har Qaid e Gham Se Qadri Ko Ab Riha Karein
Dar Par Khada Hu Jholi Pasare Ata Karein
Asjad Ka Utara 
Asjad Ka Utara


COMPLETED By: Darseislam.com





जिस्की चमक से बाघे वफ़ा आज हरा है

 हर कल्ब ए रज़्वियत में बस जिसी ज़िया है

 हमारे के सिवा नज़र में ना अब कोई जाचा है

 देखा है जिसने उसे फिदा हो के रहा है Ra

 मुर्शिद का है चेहरा

 मुर्शिद का है चेहरा



 सिद्दके अतीक अदले उमर तैघ ए हैदरी

 उस्मान की सखा गुणे बगदाद की कली

 अहमद रज़ा के नाइबो में नायब ए जलिक

 नूरी की नूरी याद है जिस में बस हुई

 मुर्शिद का है तक्वा

 मुर्शिद का है तक्वा



 क्या दौर ए पुर फ़ितन में बदलते हैं हज़ारो

 पैसे पे आज फतवे भी बिकते है हजारो

 हर दिन नया जवाब निकलते हैं हजारो

 बदले नहीं ये चाहे बादल जाए हजारो

 मुर्शिद का है फतवा

 मुर्शिद का है फतवा



 अख्तर रज़ा के ज़र्ब की कुछ ऐसी मार है

 इक वार से ही सीना ए अदा में घर है

 हर सुल्हे कुली देख के जिसको फरार है

 जिस पर पड़ा है दोनो जहां में वो ख्वार है

 मुर्शिद का है नेज़ा

 मुर्शिद का है नेज़ा



 मेला लगा है उर्स में सब आशिकन का

 ममदूह आज है जो सबी की ज़बान का

 है बेहरे सोज़ हम से काई महियां का

 इक फूल है जो मुस्तफा के बूस्टन का

 मुर्शिद का है रौज़ा

 मुर्शिद का है रौज़ा



 मौला का है जहां में ऐसा निजाम है

 हर दौर सुन्नियो को मिला इक इमाम है

 नूरी का फैज़ ताजे शरियत से आम है

 वो कौन है जो आज हमारा इमाम है

 असजद रज़ा के नाम पे किस्सा तमम है

 मुर्शिद का है बेटा

 मुर्शिद का है बेटा


 ऐ मुर्शिद ए जमाना हमारा भला करें

 हुसाम और हमाम का सदका अता करें

 हर क़ैद ए ग़म से कादरी को अब रिहा करें

 दार पर खड़ा हु झोली पासरे अता करें

 असजद का उतर:

 असजद का उतर:


Submit By: Muhammad Junaid Raza

Post a Comment

1 Comments