Kuch Aisa Karde Mere Kirdigaar Aankho'n Mein Lyrics English, Urdu, Hindi - Darseislam.com

KUCH AISA KARDE MEREY KIRDIGAAR AANKHON MEIN NAAT LYRICS


Kuch aisa Karde Merey Mirdigaar Aankho'n mein


Tadap hain Dil Mein To Hai intezaar Aankho'n  Mein
Ye Shoukh e Diid Rahe Baar Baar Aankho'n Mein
Karar Aaye Meri Bekarar Aankho'n Mein


Kuch aisa Karde Merey Mirdigaar Aankho'n mein
Hamesha Naqsh Rahe Ru-e-yaar Aankho'n mein


Chupe Hain jurm Meri Sharm Saar Aankho'n Mein
Saza Ka Qouf Hai In Ashak Baar Aankho'n Mein
Aandhera Chanane Laga Baar Baar Aankho'n Mein


Wo noor de mere Parwardigaar Aankho'n mein
Ke jalwah gar rahe rukh ki bahaar Aankho'n mein


Sada nawaza hai mujh ko tere tasawwur ne
Simat Diye hai sabhi fasle tasawwur ne
Hasin Jalwa Dikha ya Mujhe tasawwur Ne


Karam ye mujh pe kiya hai mere tasawwur ne
Ke aaj kheench di tasweer e yaar Aankho'n mein


Nazar na Aaye To be-Noor Si hain Ye Aankhe'n
Dikha'e de To Badi qitamti Hain ye Aankhe'n
Nazar e Saare agar Kar chuki Hain ye Aankhe'n


Unhein na dekha to kis kaam ki hain ye Aankhe'n
Ke dekhne ki hai saari bahaar Aankho'n mein


Lahad mein jis ghadi Sarkar Ki ziyarat hoon
Zuba'n pe Naat ke Ashaar asbe aadat hoon
Wahan Jawab me ye Sher pesh-e-qidmat hoon


Farishto poochhte ho mujh se kis ki ummat ho
Lo dekh lo ye hai tasweer e yaar Aankho'n mein


Wafa ki raah me aisa padhi dagar Aaye'n
Mere Nasib Me Qhaqe qadam Agar Aaye'n
Malo'on Gubaar to Aankhon me ye Asar Aaye'n


Ajab nahin ke likha loh ka nazar aaye
Jo naqsh e paa ka lagaaun gubaar Aankho'n mein


Tufail-e-peer aata jaam hoo mujhe saqaai
Tamaam Umar nasha jaam Ka Rahen baaki
Machal ke Ishq me nagma Sunaye ye razvi


Piya hai Jaam-e-Mohabbat jo aap ne 'NOORI'
Hamesha is ka rahega khumaar Aankhon mein


Diya hai Jaam-e-Mohabbat jo aap ne 'NOORI'
Hamesha is ka rahega khumaar Aankhon mein


Jo Dekh Aayi Hain Aankhe'n Dayaar-e-Murshid Ko

Mein Dhundlon Ga Wo Aankhe'n Hazaar Aankho'n Mein


Nigah-e-Mufti-e-Aazam ki Hain Ye Jalwa Gari

Chamak Raha Hain Jo 'AKHTAR' Hazaar Aankho'n mein


Nigah-e-Tajushshariyah ki Hain Ye Jalwa Gari

Chamak Raha Hain Jo 'ASJAD' Hazar Aankho'n mein



तड़प हैं दिल में तो है इंतजार आंखें में

 ये शौक ए दीद रहे बार बार आंखें में

 कर आए मेरी बेकरार आंखें में



 कुछ ऐसे करदे मेरे मिर्दिगार आंखें में

 हमेश नक्श रहे रु-ए-यार आंखें में



 चुप हैं जुर्म मेरी शर्म सारे आंखें में

 आशक बार आँखों में साज़ा का क़ौफ़ है

 अंधारा छनाने लगा बार बार आंखें में



 वो नूर दे मेरे परवरदिगार आंखें में

 के जलवाह गर रहे रुख की बहार आंखों में



 सदा नवाजा है मुझे को तेरे तसव्वुर ने

 सीमा दिए हैं सभी फेसले तसव्वुर ने

 हसीन जलवा दिखा या मुझे तसव्वुर ने



 करम ये मुझ पर किया है मेरे तस्व्वुर ने

 के आज कींच दी तस्वीर ए यार आंखों में



 नज़र ना आए तो बी-नूर सी हैं ये आंखें

 दीखा दे तो बड़ी कितमती हैं ये आंखें

 नज़र ए सारे अगर कर चुकी हैं ये आंखें



 उन न देखा तो किस काम की हैं ये आंखें

 के देखने की है सारी बहार आंखें में



 लहद में जिस घडी सरकार की ज़ियारत हूं

 जुबां पे नात के आशा अस्बे आदत हूं

 वहन जवाब में ये शेर पेश-ए-क़िदमत हूं



 फरिश्तो पूछे हो मुझसे किस की उम्मत हो

 लो देख लो ये है तस्वीर ए यार आंखों में



 वफ़ा की राह में ऐसी पड़ी डागर आयीं

 मेरे नसीब में क़ाक क़दम आगर आये'न

 मलो'ओन गुबार से आंखें में ये असर आए'न



 अजब नहीं के लिखा लोहा का नज़र आया

 जो नक्श ए पा का लगान गुबार आंखें में



 तुफैल-ए-पीर आता जाम हूं मुझे सका

 तमम उमर नशा जाम का रहा बाकी

 मचल के इश्क में नगमा सुनाये ये रज़वी



 पिया है जाम-ए-मोहब्बत जो आप ने 'नूरी'

 हमशा है का रहेगा खुमार आंखों में



 जो देख आई हैं आंखें दयार-ए-मुर्शिद को

 में धुंधलों गा वो आंखें हजार



 निगाह-ए-मुफ्ती-ए-आजम की हैं ये जलवा गरीच

 चमक रहा है जो 'अख्तर' हजार आंखों में



 निगाह-ए-तजुशशरिया की हैं ये जलवा गरीच

 चमक रहा है जो 'असजद' हजार आंखों में



Submit By: Muhammad Junaid Raza



 
www.DarseIslam.com/




Post a Comment

0 Comments